शादी में वरमाला दोनों पक्षों के लिए बहुत महत्वपूर्ण मानी जाती है। इसीलिए जब यह रस्म निभाई जाती है

तो दुल्हन सबसे पहले दूल्हे के गले में माला डालती है, जो इस बात का प्रतीक है कि दुल्हन ने दूल्हे को अपना पति मान लिया है। दुल्हन के बाद दूल्हा लड़की को माला पहनाता है।

जयमाला को साफ करने के बाद उसे किसी सुरक्षित स्थान पर रख देना चाहिए। इसे ऐसे स्थान पर रखें जहां इसे कोई नुकसान न हो।

आप जयमाला रखकर फोटो भी बनवा सकते हैं. ये एक खूबसूरत और यादगार याद बन जाएगी. जयमाला को आप अपने घर के मंदिर में या अलमारी में रख सकते हैं।

कुछ हिंदू परंपराओं के अनुसार, शादी के बाद जयमाला को किसी पवित्र स्थान पर विसर्जित कर देना चाहिए। इससे शादीशुदा जोड़े के जीवन में हमेशा खुशियां बनी रहती हैं।

जयमाला को विसर्जित करने के लिए आप इसे किसी नदी, समुद्र या तालाब में ले जा सकते हैं।

यदि आपको जयमाला रखने में रुचि नहीं है तो आप इसे किसी कलाकार को दे सकते हैं। जयमाला से एक कलाकार सुन्दर कलाकृति बना सकता है।

अगर आप जयमाला का उपयोग किसी धार्मिक या सामाजिक कार्य में करना चाहते हैं तो इसे किसी गरीब या जरूरतमंद व्यक्ति को दे सकते हैं।

अगर आप जयमाला को किसी खास जगह पर रखना चाहते हैं तो किसी यादगार जगह पर रख सकते हैं. उदाहरण के लिए, यदि आपकी शादी किसी विशेष स्थान पर हुई है, तो आप जयमाला को उस स्थान पर रख सकते हैं।

आप किसी खास व्यक्ति को जयमाला देना चाहते हैं तो आप किसी खास व्यक्ति को दे सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपके माता-पिता या दादा-दादी ने आपकी शादी में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, तो आप उन्हें जयमाला उपहार में दे सकते हैं।

आप किसी विशेष कारण से जयमाला रखना चाहते हैं तो रख सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप भविष्य में अपने बच्चों को दिखाना चाहते हैं कि आपकी शादी कैसी थी, तो आप जयमाला रख सकते हैं।

इससे शादीशुदा जोड़े के जीवन में हमेशा खुशियां बनी रहती हैं। कोशिश करें कि जयमाला टूटे नहीं (जयमाला चुनते समय इन बातों का ध्यान रखें) और उसे पूरा विसर्जित कर दें।

जयमाला का उपयोग आप पर निर्भर है। आप इसे अपनी इच्छानुसार किसी भी तरह उपयोग कर सकते हैं।

आलू के छिलके: फेंकने से पहले सोचें फायदे क्या हो सकते है देखे यहाँ